जब पत्नी ने कहा नामर्द तो पति ने ऐसे लिया बदला हो गयी ये दुर्घटना

जब पत्नी ने कहा नामर्द तो पति ने ऐसे लिया बदला हो गयी ये दुर्घटना

  • naveen
  • February 21, 2018
  • news
  • Comments Off on जब पत्नी ने कहा नामर्द तो पति ने ऐसे लिया बदला हो गयी ये दुर्घटना

बीवी ने पति को कहा –‘नामर्द है तू’ जिसके बाद पति ने इस तरह दिखाई मर्दानगी :- दोस्तों आज हमारे देश में क्रइम की कोई कमी नही है हालाकि इसके नियंत्रण के लिये रोज कोई न कोई नये कानून को लाया जाता है फिर भी क्राइम कम होनी की कोई सूचना नही मिली है नित्य कोई न कोई क्रइम हो ही जाते है, पहले के दशक से आज तक कई अप्रिय घटनाये हमे सुनने को मिली हैजो कि कुछ मर्डर की होगीं तो कुछ महिलाओं के साथ छेड़-छाड़ की और इसके साथ ही कुछ तो ऐसी भी न्यूज मिली है कि आपके के होस उड़ जायेगें दअसल इस समय क्रइम अपने चरम सीमा पर पंहुच चुका है हालांकि मौजूदा सरकार ने इसके चलते कई बड़े कदम उठायें है और इस समय क्रइम पर पूरी तरह से तो रोक नही लग पायी है पर क्रइम होने में कुछ कमी जरूर हुई है।

loading...

इसके अतिरिक्त महिलाओं के साथ होने वाली अपराधिक घटनाओं के खिलाफ इतने सख्त कानून बनाये जाने के बाद भी आये दिन कही ना कही से महिलाओं पर हुये किसी न किसी अत्याचार की खबरें आ ही जाती है। मित्रों हम बात कर रहे है आंध्र प्रदेश के चित्तूर जिले से एक ऐसी खबर आ रही है‚जिसको जानकार हैरानी होगी। आपकी जानकारी के लिये बता दे कि यहाँ शादी के दिन एक नवविवाहिता की उसके ही पति ने बेरहमी से पिटाई कर दी। इस मार पीट के वजह से 23 वर्ष की महिला को काफी चोट आयी है। पेशे से शिक्षक राजेश रेड्डी नाम के एक शख्स ने शनिवार की रात अपनी पत्नी शैलेजा रेड्डी के साथ इस हरकत को अंजाम दिया है।

जैसा की खबरों में बताया जा रहा हैं एक दिसम्बर को राजेश और शैलेजा वैवाहिक बंधन में बंधे थे, जिसके बाद वह घर में ही थे पत्नी के साथ मारपीट की वजह यह बताई जा रही हैं की शैलेजा रेड्डी ने अपने पति राजेश रेड्डी को नपुंसक कह दिया था जिसके बाद राजेश रेड्डी ने आपा खो दिया और अपनी पत्नी की बुरी तरह से पिटाई कर दी। और इस वजह से महिला को काफी चोटें आयी है‚एक स्थानीय होस्पिटल में इस समय शैलेजा का इलाज चल रहा हैं । पुलिस ने राजेश रेड्डी को अपनी हिरासत में ले लिया हैं। मित्रों इसके लिये आपको हम जानकारी दे दें कि हमारा देश कानून से और सविधान से चलता हैं, किसी को भी कानून अपने हाथ लेने की इजाजत नही हैं, यदि किसी की कोई बात गलत भी लगती हैं तो अपनी प्रतिक्रिया वयक्त करने के कई तरीके हो सकते हैं लेकिन कानून हाथ में लेकर किसी को दंड देने का अधिकार किसी भी इंसान को नही हैं।